छठ पूजा : लोक आस्था का महापर्व ( Chhath Pooja - Hindi Blog )

लोक आस्था का महापर्व छठ पूजा(Chhath Pooja) मुख्य रूप से बिहार, पूर्वी उत्तर प्रदेश और झारखण्ड में मनाया जाता है। हालांकि इन क्षेत्रों के लोग रोज़गार और व्यापार के कारण देश और दुनिया के अलग अलग हिस्सों में रहने लगे है जिससे यह त्यौहार पूरे विश्व के विभिन्न हिस्सों में मनाया जाने लगा है। यह सबसे कठिन व्रतों में से एक है जिसमें लगभग 36 घंटे तक बिना भोजन और पानी पिए व्रत रहना पड़ता है। छठ पूजा(Chhath Pooja) हिन्दू कैलेंडर के अनुसार कार्तिक षष्टी को मनाया जाता है। यूँ तो कहावत है की उगते सूरज को सभी प्रणाम करते हैं लेकिन यह महान भारतीय संस्कृति की विशेषता ही है जिसमें डूबते सूरज को भी प्रणाम किया जाता है। यह त्यौहार मानव जीवन के प्रकृति के प्रति प्रेम भाव का प्रदर्शन भी है। छठ पूजा(Chhath Pooja) के समय भोजपुरी भाषा में गाये जाने वाले कुछ गीत बेहद लोकप्रिय और दिल को छू लेने वाले होते हैं - 

कांच ही बांस के बहंगिया,
बहंगी लचकत जाए, 
बहंगी लचकत जाए, 
होइँ ना बलम जी कहरियाँ,
बहंगी घाटे पहुँचाये। 

इस गीत के अलावा सुबह सूर्य भगवान को अर्घ देने के लिए सूर्योदय की प्रतीक्षा करते हुए यह गाना गाया जाता है -

उगह हे सुरुज देव भेल भिनसरवा,
अरघ के रे बेरवा हो पूजन के रे बेरवा हो,
बड़की पुकारे देव दुनू कर जोरवा,
अरघ के रे बेरवा हो पूजन के रे बेरवा हो। 

दीपावली के तुरंत बाद चार दिनों के सूर्य उपासना का यह पर्व नदियों, तालाबों और समुद्र के किनारे डूबते और उगते सूरज को अर्घ देकर पूरा होता है। छठ के समय घाटों को साफ़ सफाई करने के बाद अच्छे से सजाया जाता है। छठ पूजा(Chhath Pooja) के दौरान सूर्य भगवान की बहन छठी माता का पूजन भी किया जाता है। पूर्वी उत्तर प्रदेश का निवासी होने के कारण मुझे इस त्यौहार से ज्यादा ही लगाव है। भले ही लोग किसी अन्य त्यौहार में अपने घर ना जा पाए हों लेकिन छठ पूजा(Chhath Pooja) में सभी अपने घर ज़रूर जाना चाहते हैं। इस त्यौहार में लगभग सभी प्रकार के फल और घर में पकाया जाने वाला विशेष पकवान ठेकुआ(Thekua) खाने को मिलता है। ठेकुआ आंटे, चीनी और मेवों से बना होता है। यह बहुत ही स्वादिष्ट पकवान होता है। बिहार, पूर्वी उत्तर प्रदेश और झारखण्ड के लोगों के लिए ठेकुआ मात्र एक पकवान ना होकर भावना भी है। 

चार दिनों के छठ पूजा की विधि कुछ इस प्रकार से है :

✔ प्रथम दिन - नहाय खाय
छठ पूजा(Chhath Pooja) के पहले दिन को नहाय खाय के नाम से जाना जाता है। इस दिन घर और रसोई की अच्छे से सफाई करने के उपरांत विधिवत स्नान करके व्रती अर्थात व्रत करने वाला चावल, चने की दाल और कद्दू या लौकी की सब्ज़ी खाता है। आमतौर पर यह भोजन मिट्टी के चूल्हे पर आम की लकड़ी को जलाकर बनाया जाता है। यह मुख्य रूप से अपने तन मन को पवित्र करने का दिन होता है। इस दिन व्रती को एक समय ही भोजन करना होता है। व्रती के भोजन करने के बाद घर के अन्य लोग भोजन ग्रहण करते हैं। 

✔ दूसरा दिन - खरना
खरना छठ पूजा(Chhath Pooja) का दूसरा दिन होता है। इस दिन व्रती पूरे दिन उपवास रखती हैं। जिसमें अन्न और जल ग्रहण करना पूरी तरह से वर्जित होता है। सूर्यास्त के बाद मिट्टी के चूल्हे पर आम की लकड़ी को जलाकर चावल और गुड़ का खीर बनाया जाता है। सूर्य देव को चढ़ा कर व्रती इस खीर को एकांत में ग्रहण करती हैं। इस त्यौहार के नियम के अनुसार खीर ग्रहण करते समय शोर सुनना वर्जित है। व्रती के खीर ग्रहण करने के बाद घर के अन्य सदस्य भी इसी खीर का प्रसाद खाते हैं। इस खीर प्रसाद को खाने के बाद व्रती का लगभग 36 का निर्जल उपवास शुरु होता है।

 तीसरा दिन - संध्या अर्घ
छठ पूजा(Chhath Pooja) का तीसरा दिन संध्या अर्घ का होता है। पूरे दिन सभी प्रकार के फलों को अच्छे से धो कर बाँस या खर के बने हुए टोकरे जिसे भोजपुरी में दउरा या डलिया कहा जाता है में रखा जाता है। इस टोकरे को घर के पुरुष नंगे पैर अपने सिर पर रख कर नदी या तालाब के किनारे घाट पर ले जाते है। व्रती नदी या तालाब के पानी में खड़े होकर सूर्य भगवान की आराधना करती हैं। सूर्यास्त के समय बांस या पीतल के सूप में फलों, ठेकुआ और पूजा के अन्य सामान के साथ सूर्य भगवान को अर्घ दिया जाता हैं। घर के पुरुष और बच्चे सूप में दूध गिराते हैं और महिलाएँ बारी बारी से नदी के पानी में खड़े होकर सूर्य भगवान की पूजा करती हैं। रात के समय उन घरों में एक विशेष पूजा होती है जिन घरों में जल्दी ही शादी हुई होती है या फिर किसी बच्चे का जन्म हुआ होता है। इसे कोसी भरना कहा जाता है। 

✔ चौथा दिन -  प्रातः अर्घ
प्रातः अर्घ छठ पूजा(Chhath Pooja) का चौथा और अंतिम दिन होता है। इस दिन भोर में सूर्योदय के पहले ही नदी या तालाब के घाटों पर पहुँचना होता है। नदी या तालाब के पानी में खड़े होकर सूर्य भगवान के उदय की प्रतीक्षा की जाती है। सूर्योदय के बाद भगवान सूर्य पूजा करते हुए अर्घ दिया जाता है। इस अर्घ के बाद लगभग 36 घंटे का निर्जल उपवास पूरा होता है। व्रती कुछ मीठा खाकर और जल ग्रहण करके अपने व्रत को पूरा करती हैं।

छठ पूजा और बचपन की यादें 
छठ पूजा(Chhath Pooja) के साथ बचपन की बहुत सारी यादें जुड़ी हुई हैं। छठ पूजा के 3-4 दिन पहले से ही ठेकुआ बनाने के लिए गेहूँ को धुल कर घर के छत पर सूखने के लिए रखा जाता था। हम बच्चों की यह जिम्मेदारी होती थी की कोई चिड़िया गेहूँ को जूठा न करने पाए। छठ के 2 दिन पहले हम लोग मंदिर के घाट के किनारे मिट्टी और ईंट से छठ माता बना कर आते थे। अर्घ देने के लिए हर तरह के फलों की खरीददारी करने कई बार बाजार जाना होता था। कुछ फल जैसे गागल नींबू, अन्नानास इत्यादि जो उत्तर भारत में कम ही मिलते थे केवल छठ पूजा(Chhath Pooja) में ही खाने को मिलते थे। पूजा के लिए गन्ने लाने के लिए हम लोग गाँव में रहने वाले मित्रों के यहाँ जाते थे। छठ पूजा(Chhath Pooja) का प्रसाद ठेकुआ खाने में बहुत आनंद आता था। छठ पूजा(Chhath Pooja) का प्रसाद दोस्तों और रिश्तेदारों के यहाँ पहुंचाने में 3-4 दिन लग जाता था। दिवाली के बहुत सारे बम पटाखे हम लोग छठ के लिए बचाकर रखते थे। दिवाली में घर में लगी झालर और लाइटें छठ पूजा(Chhath Pooja) के बाद ही उतारा जाता था। सुबह 2 बजे उठकर नहा कर ही घाट जाना पड़ता था। इस तरह से बहुत ढेर सारी छठ पूजा (Chhath Pooja) की यादें जेहन में आ जाती हैं। 

इस प्रकार हम यह समझने में शायद कामयाब हो सके होंगे की छठ पूजा(Chhath Pooja) का क्या महत्त्व है। यह लोक आस्था का एक विराट पर्व है जो मानव मात्र का प्रकृति के प्रति लगाव को दर्शाता है। छठ पूजा(Chhath Pooja) हमारे हिन्दू धर्म के साथ ही साथ संस्कृति का भी अद्भुत दर्शन है। जय सूर्य देव। जय छठी माता। 







Blogger Name: Pramod Kumar Kushwaha
Information Source: Self and Family sources, Internet etc.
For more information & feedback write email at : pktipsonline@gmail.com

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कश्मीर : धरती का स्वर्ग (Trip to Kashmir : Paradise on Earth - Hindi Blog)

मालवण : सिंधुदुर्ग की शान ( Trip to Malvan - Hindi Blog )

समुद्र में मोती : अंडमान निकोबार द्वीप समूह की यात्रा (Andaman Trip - Hindi Blog)

प्राचीन गुफाओं और मंदिरों का शहर : बादामी, पट्टदकल और ऐहोले (Trip to Badami, Pattadkal & Aihole - Hindi Blog)

कास पठार : महाराष्ट्र में फूलों की घाटी (Trip to Kaas Plateau : Maharashta's Valley of Flower-Hindi Blog)

महाबलेश्वर और पंचगनी : एक प्यारा सा हिल स्टेशन (Trip to Mahabaleshwar & Panchgani - Hindi Blog)

ऊटी और कुन्नूर : नीलगिरी का स्वर्ग (Trip to Ooty & Coonoor - Hindi Blog)

सिंहगढ़ का किला : तानाजी मालुसरे की शौर्य भूमि और नीलकंठेश्वर मंदिर (Trip to Sinhgarh Fort & Neelkantheshwar Temple - Hindi Blog)

महाराष्ट्रियन व्यंजन : स्वाद और परंपरा का अद्भुत संगम (Maharashtrian Cuisine : Fusion of Taste & Tradition - Hindi Blog)

पन्हाला दुर्ग, विशालगढ़ दुर्ग और पावनखिंड का युद्ध(Panhala Fort, Vishalgarh Fort & Battle of Pawankhind - Hindi Blog)