दिल खोया खोया सा क्यों है (Why heart is lost - Hindi Poem)

कुछ तो दिल कह रहा है तुमसे,
दिल में चाहत का अज़ीब सा नशा है.
कमी सी है कुछ एहसासों की,
दिल खोया खोया सा क्यों हैं.

इंतेज़ार कर रहा था करूँगा भी,
पर दिल समझने को तैयार नही है.
सुकून है कि जल्दी ही मिलना होगा पर,
दिल खोया खोया सा क्यों है.

बहुत सारी मोहब्बतें रखी है सहेजकर,
दिल के किसी कोने में छुपा रखा है.
आने पर दे दूंगा पर , अभी,
दिल खोया खोया सा क्यों है.

दिल में उठ रही है एक आवाज़ सी,
बेहिसाब मोहब्बतों की लहरों सी हैं.
बेताब सा दिल है उनके लिए फिर भी,
दिल खोया खोया सा क्यों है.

*******

रचनाकार - प्रमोद कुमार कुशवाहा


Image Credits : Pixabay


For more information & feedback write email at : pktipsonline@gmail.com

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कश्मीर : धरती का स्वर्ग (Trip to Kashmir : Paradise on Earth - Hindi Blog)

मालवण : सिंधुदुर्ग की शान ( Trip to Malvan - Hindi Blog )

महाबलेश्वर और पंचगनी : एक प्यारा सा हिल स्टेशन (Trip to Mahabaleshwar & Panchgani - Hindi Blog)

श्रीनगर : एक खूबसूरत शाम डल झील के नाम (A Memorable Evening in Dal Lake Srinagar - Hindi Blog)

समुद्र में मोती : अंडमान निकोबार द्वीप समूह की यात्रा (Andaman Trip - Hindi Blog)

चित्रकूट : जहाँ कण कण में बसे हैं श्रीराम (Trip to Chitrakoot - Hindi Blog)

पालखी : पंढरपुर की धार्मिक यात्रा(Palkhi Yatra to Pandharpur - Hindi Blog)

प्राचीन गुफाओं और मंदिरों का शहर : बादामी, पट्टदकल और ऐहोले (Trip to Badami, Pattadkal & Aihole - Hindi Blog)

कास पठार : महाराष्ट्र में फूलों की घाटी (Trip to Kaas Plateau : Maharashta's Valley of Flower-Hindi Blog)

ऊटी और कुन्नूर : नीलगिरी का स्वर्ग (Trip to Ooty & Coonoor - Hindi Blog)